milap singh bharmouri

milap singh bharmouri

Monday, 20 April 2015

घुमने रा मूढ

अज्ज घुमने रा मूढ बनाउरा
चर पकडी लै हत्था मा हौठी
लाई इंदे स्वर्गा रा फेरा
कजो रखने जज्बात ऐ रोकी

चल हेरी इंदे
बजोल , चुनेड ग्रोण्डा
नोऐग्रां री करी इंदे सैर
गुवाडी , घडो, दियोल
दुई धैडे ता इठी तू ठैर

शिवजी रा बास किंयूर
केंलगा री कलाह, कुलैठ
मुलना सकून बडा भरी
ठिकी करी इठी ता बैठ

कजो भटकदा ऐरा ओरा मनुआ
मुलनी ना इनी जिनी ठार
स्वर्ग ने सच आउं बलदा
स्वर्ग ने अपने पहाड

----- मिलाप सिंह भरमौरी

No comments:

Post a comment