milap singh bharmouri

milap singh bharmouri

Monday, 16 November 2015

धना रा धंदा

सब्बी तांऊ करडा
कम हा इंदा
सुखल्ला निआ ऐ
धना रा धंदा

धैडी राती वना मा रैणा
हौंदा रा हीत
हंसी करी सैणा
बरखा झडी री
परवाह न करदे
रिख वराग भी
असू तांऊ डरदे

पैरा सोगी गाई दिंदे
पहाड मैदान
गद्दी तांऊ होर न
ईठी कोई महान

...... मिलाप सिंह भरमौरी

No comments:

Post a comment