milap singh bharmouri

milap singh bharmouri

Saturday, 7 November 2015

समाजा रा सेवक

नेता ही न करदे
सेवा समाजा री
रैना देआ छड्डा
नेता बनने रे खावा जी

भगवाना रा दर्जा 
दिंदा समाज डाक्टरा जो
बुरे टैमा मंज दस्दा
चनना रास्ता सो

डाक्टरा तांऊ मोटा
भला कुन समाजा रा सेवक
जेडा मुर्दे मंज भी पाई दिंदा
जीने री फुक

मोट्टे मोट्टे नेता भी
डाक्टरा अग्गू रूंदे
डाक्टरा अग्गू लमे पैणे जो
बेबस भुंदे

अक्क सरकारी मास्टर भी
भुंदा समाजा रा सेवक
जे भोआ तेसा मंज
सेवा करने री निअत

तेस बले हा गरीब बच्चे री
सेवा करने रा मौका
जिनी पढी लिखी करी लाना
तरक्की रा चौका

तै घट न भुंदी तन्खा
डाक्टरा मास्टरा री
लख्खा तिकर पुजदे डाक्टर
सत्तर पच्तर तांई मास्टर
जै सई तरीके करन कम
ता सोईऐ भुंदे असली सेवक
फिरी भी जे सो नेता बनना चांदे
मुंजो ता लगदा 
सो अपना ही घर भरना चांदे

........ मिलाप सिंह भरमौरी

No comments:

Post a comment