milap singh bharmouri

milap singh bharmouri

Monday, 25 April 2016

केलंगा रा मंदर

बदलाब जरूरी हा
टैमा सोगी
झीकी रैणा
बनाई दिंदा हा रोगी

मनु भोआ जां
रीती रिवाज
सब्बी जो लाई लैना
चिंदा टैमा रा साब

अक्क बडी पुरानी
रीत हा इंदी
हल्ले तांई भी
हा पूरी सो जिंदी
केलंगा ते भोआरी रे
मंदरा मंज
जनानी न कोई
इंदे समाजा री गंदी

मुंजो ता लगदा
अबे टैम चली आ
ऐस बडी पुरानी
रिता जो मुका
मना चिता सोगी
करदी पूजा जनानी
इंआ जो बी मंदरा मां
पूरा हक देआ

घरे बी सोचा
के भुंदा हा
संज भुंदे ही
मर्द लाई लैंदे घुटकू
फिरी राग लाई थैंदी
मरदा जो जनानी
धूप धुखा ,धूप धुखा
पर किंआ धुखान
लाई के लैउरा भुंदा घुटकू

..... मिलाप सिंह भरमौरी

No comments:

Post a comment