milap singh bharmouri

milap singh bharmouri

Wednesday, 12 August 2015

दिनके री घार

दिनके री घार
---------------

बडी बुरी हा टेरी मार
ऐ हा भाईयो दिनके री घार
कितना भी मारू भोया ड्राइवर
रोकी देंदी ऐ पहिए री रफ्तार

जरा करी जे बरखा भुची गई
समझा दिनके री घार पैई गई
दुई धैडे जे जोरा रा ही गो
समझा मोटा सयापा पैई गो

कोई ता भाईयो बाईपास निकाला
जैडा भरमौरा जो खडामुखा सोगी मेला
पुल बना भौंए सुरंग बना कोई
खत्म ता भोआ ऐ रोजा रा झमेला

जरूरी भी कई बारी नकैणा भुंदा
घारी बले इची करी फसी बैखदे ने
जम्मन मरन , अते व्याह मुकाणी जो
किंआ करी गाणा हची बैखदे ने

सोचा भाईयो कुछ ता सोचा
किंआ करी हल टेरा निकली सकदा
किंआ करी , के जिना तिगडम लाइया
सोचा किंआ करी टेरा बाईपास निकली सकदा

---------- मिलाप सिंह भरमौरी

No comments:

Post a comment