milap singh bharmouri

milap singh bharmouri

Wednesday, 6 May 2015

सडका रे डंगे

ऐ सडका रे डंगे
रोजा रे पंगे
सिद्दे सुरंगा कजो न निकाली दिंदे ने

अक्क निकाली दीन
धर्मशाला तांउ होली जो
अक्क निकाली दीन
चम्बे तांउ चुआडी जो
चौबिया जो लाउला सोगी कजो न जोडी दिंदे ने

अप्पू भुची गानी तरक्की मती
कुदरता रा खजाना मता भरा इठी
कजो हक्का पांदे विकासा करने री
पर्यटना कनारी न ध्यान कजो  रति दिंदे ने

-------- मिलाप सिंह भरमौरी

No comments:

Post a comment