milap singh bharmouri

milap singh bharmouri

Wednesday, 14 January 2015

पिट्ठ परोही

इन्ने  मनु  तांउ  झट्ट  करी के
अपना   दोस्त  तु रिश्ता तरोड
जेडे मुंहा पुट्ठी  हिक्का रे बनदे
पिट्ठ  परोही   करदे  चर्चा होर

     ----- मिलाप सिंह भरमौरी

No comments:

Post a comment