milap singh bharmouri

milap singh bharmouri

Thursday, 8 September 2016

Sattu ra supna

सत्तू रा सुपना
------------------

फिरी करी जांदरा तांउ
गधैरना मा बसना
कम्म निआ ऐ तुना आसान
लोभी भुंदे भुची गछुरे भगैल
बडा भरा भाईयो करदे परेशान

अक्क आंटी थू मेरा सत्तू भाई
जांदर रैंदा थू करदा थू कोई नेक कमाई
तैेजो बडा घमंड थू
अपने गधैरना वाले भाई पुर
हुनदा न थू तसेरी
सो कस्सी तांउ बुराई

तसेरे हवाले ही सब करी थैउरे थिए
अपने खेतर ,बगडी तै अपना साजी रा घर
सत्तू बचारे वले किराया न भुंदा थू
के करदा,जांदर वनाडा मा दी थैउरा थू हैर

पर तैठी वनाडा मा पैई करी
सो सोचदा रैंदा थू
अक्क धैडे मुं भी अपने
गधैरना जो फिरना
अपना नोआ घर बनाना
पुट्टी करी जैडा हैस्से मंज हा पुराना
तै अपने शरीका भगैला मां मु भी हंडना

इंआ सोचदे सोचदे सोचदे
बडे साल भुची गै
निक्के भी तसेरे अबे
खरे मोट्टे भुची गे
दाने पानी रा भी खरा
सरकल चली पैउ
तिनि सोचू खरा टैम आ
अबे गधैरना जो चलदे

सत्तू चलू गधैरना जो
पिट्ठी छिकनू पाई करी
अपने भगैला सोगी रैणे रे सुपने लैई करी
सत्तू पुज्जू गधैरने
बंदे अपने भाई रे पैर
भाई मुंजो फिरदे फिरदे लगी गो बडा टैम

भाई अबे न फिरी करी मु
जांदरा जो गाना
अपना पुट्टी करी ईठीए नोआ घर बनाना
अपने दरीका शरीका सोगी मिलना बरतना
अपने बुजुर्गा री
ऐस्स ही चिक्का मां रैणा

सत्तू रा भाई ता हुनदेई भुची गो जैईला
ऐ कटाउं चली आ नोआ मेरी हिक्का जो किला
ओ हला ऐस ठारी पुर ता मु लैटरिंग बनानी थी
सत्तू रा भाई ता लगू भूना नीला नीला.......

   .......... मिलाप सिंह भरमौरी

भाईयो फिरी सत्तू बेचारे किंआ किंआ घर बनाउ ऐ मु अगली पोस्ट भैजला..कविता थोडी लंबी हा......

No comments:

Post a comment