milap singh bharmouri

milap singh bharmouri

Friday, 25 September 2015

सडक

बडी पुरानी गल हा
निके जिने असे भुंदे थिए
धना रे डेरे बैखी करी रेडिए पुर
असे खबरा हुनदे थिए
होली तांऊ धर्मशाला जो सडक बननी हा
हुनी करी बडे खुश भुंदे थिए

अबे ना रैह सो रेडिए
ना रैह सो ध्याडे
अबे बाल भी चिट्टे लगी पै भूना
पर हल्ले तांई सो सडक ना बनी
दस्सा भला असू
कस्स अग्गू रूणा

बडे बडे बदलाव भुची गे
सैटेलाइट इंदे मंगला पुर पुजी गे
होर भी अरो परो
कुतूने प्रोजेक्ट बनी गे
पर हल्ले भाईयो सडक ना बनी
किंया करी असु मरना जली

अक पीढी ता मुकी गई
अबे ता सडक बनाई देआ
बडी पुरानी डिमांड हा मनु री
अबे ता कम्म कराई देआ

           ......... मिलाप सिंह भरमौरी

No comments:

Post a comment